हदीस सूची

हमें अल्लाह ने सिखा दिया है कि हम आपपर सलाम कैसे भेजें, लेकिन हम आपपर दरूद कैसे भेजें? तो आपने फ़रमायाः "कहोः "اللَّهُمَّ صَلِّ على محمد وعلى آل محمد؛ كما صَلَّيْتَ على إبراهيم، إنَّك حميد مجيد، وبَارِكْ على محمد وعلى آل محمد؛ كما باركت على إبراهيم، إنَّك حميد مجيد" (अर्थात ऐ अल्लाह! मुहम्मद और मुहम्मद की संतान पर रहमत नाज़िल फरमा, जैसे तूने इबराहीम पर रहमत नाज़िल की थी। बेशक तू प्रशंसा के योग्य और महिमावान है। ऐ अल्लाह! मुहम्मद और मुहम्मद की संतान पर बरकत नाज़िल फरमा, जैसे तूने इबराहीम पर बरकत नाज़िल की थी। बेशक तू प्रशंसा के योग्य और महिमावान है।)

वह प्रत्येक नमाज़ के सलाम फेरने के बाद कहा करते थे : " لا إله إلا الله وحده لا شريكَ له، له الملك وله الحمد وهو على كل شيءٍ قديرٌ، لا حولَ ولا قوةَ إلا بالله، لا إله إلا الله، ولا نعبد إلا إيَّاه، له النِّعمة وله الفضل، وله الثَّناء الحَسَن، لا إله إلا الله مخلصين له الدِّين ولو كَرِه الكافرون" (अल्लाह के सिवा कोई सच्चा उपास्य नहीं, वह अकेला है, उसका कोई साझी नहीं, उसी की बादशाहत है और उसी के लिए सभी प्रकार की उच्च कोटी की प्रशंसा है और वह हर काम में सक्षम है। उसके सिवा और किसी में कुछ भी सामर्थ्य नहीं है। अल्लाह के सिवा कोई सच्चा उपास्य नहीं, हम केवल उसी की उपासना करते हैं, उसी की सब नेमतें हैं और उसी का सब पर उपकार है, उसी के लिए समस्त अच्छी प्रशंसाएँ हैं। अल्लाह के सिवा कोई सत्य पूज्य नहीं, हम उसी के लिए धर्म को खालिस व शुद्ध करते हैं, चाहे ये बात काफिरों को नागवार लगती हो।)