عن عبد الله بن عمر-رضي الله عنهما- قال: «صَلَّيتُ معَ رسول الله -صلَّى الله عليه وسلم- رَكعَتَين قَبل الظُّهر، وَرَكعَتَين بَعدَها، ورَكعَتَين بعد الجُمُعَةِ، ورَكعَتَينِ بَعدَ المَغرِب، وَرَكعَتَينِ بَعدَ العِشَاء». وفي لفظ: «فأمَّا المغربُ والعشاءُ والجُمُعَةُ: ففي بَيتِه». وفي لفظ: أنَّ ابنَ عُمَر قال: حدَّثَتنِي حَفصَة: أنَّ النبِيَّ -صلَّى الله عليه وسلم-: «كان يُصَلِّي سَجدَتَين خَفِيفَتَينِ بَعدَمَا يَطلُعُ الفَجر، وكانت سَاعَة لاَ أَدخُلُ على النبيَّ -صلَّى الله عليه وسلم- فِيهَا».
[صحيح.] - [متفق عليه بجميع رواياته.]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन उमर (रज़ियल्लाहु अंहुमा) का वर्णन है, कहते हैंः मैंने अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) के साथ ज़ोहर से पहले दो रकात, उसके बाद दो रकात, जुमा के बाद दो रकात, मग्रिब के बाद दो रकात और इशा के बाद दो रकात पढ़ी है। एक स्थान पर हैः जहाँ तक मग़्रिब, इशा और जुमा की दो-दो रकातों की बात है, तो उन्हें आप अपने घर में पढ़ा करते थे। तथा एक स्थान में हैः अब्दुल्लाह बिन उमर (रज़ियल्लाहु अंहुमा) कहते हैंः मुझे हफ़सा ने बताया कि नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) फ़ज्र नमूदार होने के बाद दो हल्की रकातें पढ़ते थे। दरअसल यह ऐसा समय था, जब मैं नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) के पास जाने से बचता था।
-

व्याख्या

इस हदीस में पाँच वक़्त की फ़र्ज़ नमाजों से पहले और बाद में पढ़ी जाने वाली सुन्नतों का उल्लेख है। विस्तार में जाएँ, तो ज़ोहर के समय चार रकअत; पहले दो और बाद में दो रकअत, जुमा के दिन दो रकअत बाद में, मग़्रिब के समय दो रकअत बाद में और ईशा के समय दो रकअत बाद में। यह भी उल्लिखित है कि रात की दोनों नमाज़ों; मग़्रिब तथा इशा की सुन्नतों और फ़ज्र एवं जुमा की सुन्नतों को अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) घर में पढ़ा करते थे। चूँकि अब्दुल्लाह बिन उमर (रज़ियल्लाहु अंहुमा) की बहन हफ़सा नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) के विवाह में थीं, इसलिए उनका आपके यहाँ आना-जाना था। वह इबादतों के समय आपके यहाँ आकर देखा करते थे, परन्तु वह उन समयों में आने से बचते थे, जिनमें लोग अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) के पास आने से बचते थे। कारण था, अल्लाह का यह आदेशः "يا أيها الذين آمنوا ليستأذنكم الذين ملكت أيمانكم والذين لم يبلغوا الحلم منكم ثلاث مرات من قبل صلاة الفجر" الآية (अर्थातः ऐ ईमान वालो, जो तुम्हारी मिल्कियत में हों और जो तुममें से युवा अवस्था को अभी नहीं पहुँचे हैं, उनको चाहिए कि तीन समयों में तुमसे अनुमति लेकर तुम्हारे पास आएँ। फ़ज्र की नमाज़ से पहले, ... आयत के अंत तक।) अतः, वह आपकी नमाज़ के बारे में जानने के लिए आपके पास फ़ज्र की नमाज़ से पहल नहीं आते थे। लेकिन चूँकि उनके अंदर जानने की तीव्र इच्छा थी, इसलिए अपनी बहन हफ़सा से पूछ लिया करते थे और उन्होंने आपको बताया था कि आप फ़ज्र तुलू होने के बाद दो हल्की रकअतें पढ़ा करते थे, जो नमाज़े फ़ज्र की सुन्नत हैं।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग
अनुवादों को प्रदर्शित करें