عن عبد الله بن مسعود -رضي الله عنه- قال: سمعت رسول الله -صلى الله عليه وسلم- يقول: "إن الرقى والتمائم والتِّوَلَة شرك".
[صحيح] - [رواه أبو داود وابن ماجه وأحمد]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन मसऊद (रज़ियल्लाहु अंहु) से वर्णित है, कहते हैंः मैंने अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) को कहते सना हैः "निश्चय ही दम करना, तावीज़ गंडे बाँधना और पति-पत्नी के बीच प्रेम पैदा करने के लिए जादूई अमल करना शिर्क है।"
सह़ीह़ - इसे इब्ने माजा ने रिवायत किया है ।

व्याख्या

प्यारे रसूल -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- ने इस हदीस में बताया है कि हानि से बचाव और हित की रक्षा के लिए इन वस्तुओं का प्रयोग शिर्क है, क्योंकि अल्लाह के सिवा कोई लाभ और हानि का मालिक नहीं है। इस हदीस में दरअसल, इन वस्तुओं को व्यवहार करने से मना किया गया है। झाड़-फूँक, तावीज़-गंडे जो आम तौर से बच्चों के शरीर में लटकाए जाते हैं और ऐसे जादूई कार्य जो पति-पत्नी के बीच प्रेम पैदा करने के लिए किए जाते हैं, शिर्क हैं। परंतु, दम करना जायज़ है, यदि उसके अंदर तीन शर्तें पाई जाएँ : 1- यह विश्वास रखा जाए कि वास्तविक लाभ देने वाला अल्लाह है और दम केवल एक साधन है। अगर यह विश्वास हो कि अल्लाह नहीं, बल्कि दम ही लाभदायक है, तो यह हराम बल्कि शिर्क होगा। 2- उसके अंदर कोई ऐसी बात न हो, जो शरीयत के ख़िलाफ़ जाती हो। यदि अल्लाह के सिवा किसी और को पुकारा जाए या जिन्नों से फ़रियाद की जाए या इस तरह की कोई और बात हो, तो यह हराम बल्कि शिर्क होगा। 3- दम करते समय पढ़े जाने वाले शब्द समझ में आने वाले हों। यदि ऐसे अर्थहीन शब्द पढ़े जाएँ, जो जादू एवं तंत्र में से हों, तो दम करना नाजायज़ होगा।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग सिंहली कुर्दिश पुर्तगाली मलयालम तिलगू सवाहिली तमिल बर्मी
अनुवादों को प्रदर्शित करें

फ़ायदे

  1. अक़ीदे को उसे कमज़ोर करने वाली चीजों से बचाने की प्रेरणा, अगरचे इस तरह की चीज़ों में बहुत-से लोग संलिप्त हों।
  2. इस हदीस में उल्लिखित चीज़ों के इस्तेमाल का हराम होना।
  3. इस हदीस में जिस शिर्क का उल्लेख है, वह छोटा शिर्क है या बड़ा? हम कहते हैं : यह इस बात पर निर्भर करता है कि इनसान इन्हें किस इरादे से प्रयोग कर रहा है? यदि इनका प्रयोग इस अक़ीदे के साथ किया जाए कि काम बनाने वाला अल्लाह है, तो छोटा शिर्क है। और अगर इस अक़ीदे से किया जाए कि खुद यह चीज़ें ही काम बनाती हैं, तो यह बड़ा शिर्क है।
  4. झाड़-फूँक का हराम और शिर्क होना, सिवाय उसकी उन सूरतों के जिनकी अनुमति शरीयत ने दी है।
अधिक