عن عائشة -رضي الله عنها-، قالت: لما نُزِلَ برسول الله -صلى الله عليه وسلم-، طَفِقَ يَطْرَحُ خَمِيصَةً له على وجهه، فإذا اغْتَمَّ بها كشفها فقال -وهو كذلك-: "لَعْنَةُ الله على اليهود والنصارى، اتخذوا قبور أنبيائهم مساجد -يُحَذِّرُ ما صنعوا". ولولا ذلك أُبْرِزَ قَبْرُهُ، غير أنه خَشِيَ أن يُتَّخَذَ مسجدا.
[صحيح] - [متفق عليه]
المزيــد ...

आइशा (रज़ियल्लाहु अन्हा) कहती हैं कि जब अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) की मृत्यु का समय आया, तो अपने चेहरे पर एक धारीदार कपड़ा रखने लगे। जब उससे मुँह ढक जाने और दम घुटने लगा, तो उसे हटा लिया और (इसी बेचैनी की अवस्था में) फ़रमायाः "यहूदियों और ईसाइयों पर अल्लाह की लानत है। उन्होंने अपने नबियों की क़ब्रों को मस्जिद बना लिया।" (आप दरअसल उनके इस कृत्य से सावधान कर रहे थे।) यदि ऐसा न होता, तो आपकी क़ब्र बाहर बनाई जाती। आपको इस बात का डर था कि कहीं उसे मस्जिद न बना लिया जाए।
सह़ीह़ - इसे बुख़ारी एवं मुस्लिम ने रिवायत किया है।

व्याख्या

आइशा (रज़ियल्लाहु अनहा) हमें बताती हैं कि जब अल्लाह के नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) की मृत्यु का समय करीब आया, तो मृत्यु की कठिनाइयों का सामना करते हुए कहा : "अल्लाह की लानत हो यहूदियों और ईसाइयों पर"; इसका कारण यह है कि उन्होंने अपने नबियों की क़ब्रों के ऊपर मस्जिदें बना ली थीं। आइशा (रज़ियल्लाहु अनहा) ने आपके इस कथन से निष्कर्ष निकाला कि आपका उद्देश्य अपनी उम्मत के लोगों को सावधान करना था कि कहीं वह भी यहूदियों और ईसाइयों के रास्ते पर चलते हुए अपने नबी की क़ब्र के ऊपर मस्जिद न बना लें। फिर उन्होंने स्पष्ट किया कि सहाबा ने आपको केवल इस भय से आपके कमरे से बाहर दफ़न करने से गुरेज़ किया कि कहीं लोग आपकी क़ब्र को मस्जिद न बना लें।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग सिंहली कुर्दिश होसा पुर्तगाली मलयालम तिलगू सवाहिली तमिल बर्मी
अनुवादों को प्रदर्शित करें

फ़ायदे

  1. इस हदीस में अल्लाह के लिए नमाज़ पढ़ने हेतु, नबियों और नेक लोगों की क़ब्रों पर मस्जिद बनाने की सख़्त मनाही है, क्योंकि यह शिर्क तक पहुँचने का साधन है।
  2. इससे अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) का तौहीद (एकेश्वरवाद) पर हद से ज़्यादा तवज्जो देने और आपके इस डर का पता चलता है कि कहीं आपकी क़ब्र को भी हद से ज़्यादा सम्मान न दिया जाने लगे, क्योंकि यही सम्मान धीरे-धीरे शिर्क तक ले जाता है।
  3. यह भी ज्ञात होता है कि यहूदियों, ईसाइयों और उन लोगों पर, जो उनकी तरह ही क़ब्रों पर इमारत बनाते और उनको सजदास्थल बना लेते हैं, लानत भेजना जायज़ है।
  4. इसमें अल्लाह के नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) को आपके घर के अंदर ही दफ़नाने का भेद बयान किया गया है, जो यह है कि लोग आपकी क़ब्र को लेकर फ़ितने में न पड़ जाएँ।
  5. यह भी मालूम होता है कि अल्लाह के नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) एक इंसान थे और आपपर भी दूसरे इंसानों की तरह मौत आनी और मौत के वक्त की कठिनाइयाँ उनको भी सहना ही थीं।
  6. इससे अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) का लोगों के पथप्रदर्शन की अत्यधिक इच्छा भी प्रतीत होती है।
  7. इससे सामान्य रूप से तमाम काफिरों पर लानत भेजने के जायज़ होने का सबूत भी मिलता है।
  8. इससे क़ब्रों पर किसी भी प्रकार की इमारत बनाने का हराम होना भी सिद्ध होता है।
  9. इससे उन लोगों का खंडन होता है, जो कहते हैं कि आम लोगों की क़ब्रों से अलग रखने हेतु, उलेमा की क़ब्रों पर इमारत बनाना जायज़ है।
  10. क़ब्रों पर इमारत बनाना, यहूदियों और ईसाइयों का तरीका है।
  11. इसमें आइशा (रज़ियल्लाहु अनहा) की धर्मज्ञान में दक्षता का बयान है।
अधिक