عن عمر بن الخطاب -رضي الله عنه- قال: قَالَ رَسُولُ الله-صلى الله عليه وسلم-: «إنَّ الله يَنْهَاكُمْ أَن تَحْلِفُوا بِآبَائِكم». وَلمسلم: «فَمَن كان حَالِفا فَلْيَحْلِف بِالله أو لِيَصْمُت». وَفِي رِوَايَةٍ قَالَ عُمَرُ -رضي الله عنه- قال: «فَوَالله ما حَلَفْتُ بِهَا منذ سَمِعْت رَسُولَ الله يَنْهَى عَنْهَا، ذَاكراً وَلا آثِراً».
[صحيح.] - [متفق عليه.]
المزيــد ...

उमर बिन ख़त्ताब- रज़ियल्लाहु अन्हु- कहते हैं कि अल्लाह के रसूल- सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- ने फ़रमायाः "अल्लाह तुम्हें अपने बाप-दादा की क़सम खाने से रोकता है।" मुस्लिम की रिवायत में हैः "जिसे कसम खाना हो, वह अल्लाह की क़सम खाए अथवा चुप रहे।" एक और रिवायत में है कि उमर- रज़ियल्लाहु अन्हु- ने कहाः अल्लाह की क़सम, जबसे मैंने अल्लाह के रसूल- सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- को ऐसी क़समों से मना करते सुना है, मैंने कभी उनकी क़सम नहीं खाई है। न तो जान-बूझकर न किसी की क़सम नक़ल करते हुए।
-

व्याख्या

अल्लाह के रसूल -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- ने उमर रज़ियल्लाहु अनहु को बाप की क़सम खाते हुए देखा, तो उन्हें नबी -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- ने आवाज़ ऊँची करके फ़रमायाः ((निश्चय अल्लाह तुम्हें पुर्वजों की सौगंध खाने से रोकता है))। तो सहाबा अल्लाह के रसूल के आदेश का पालन करने लगे और सिर्फ अल्लाह ही की सौगंध खाने लगे। यहाँ तककि इसे सुनने के पश्चात हज़रत उमर ने कभी भी अल्लाह के सिवा दूसरी चीज़ की सौगंध नहीं ली, न जान बूझ कर और न ही किसी की क़सम का उल्लेख करते हुए।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग
अनुवादों को प्रदर्शित करें