عن أبي موسى الأشعري -رضي الله عنه- عن النبي -صلى الله عليه وسلم- قال: «مَنْ حَمَلَ عَلَيْنَا السِّلاحَ فَلَيْسَ مِنَّا».
[صحيح.] - [متفق عليه.]
المزيــد ...

अबू मूसा अशअरी (रज़ियल्लाहु अनहु) कहते हैं कि अल्लाह के नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमायाः जो हमारे विरुद्ध हथियार उठाए, वह हममें से नहीं है।
-

व्याख्या

नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) फ़रमा रहे हैं कि ईमान वाले आपस में भाई-भाई हैं। एक को दूसरे की पीड़ा से पीड़ा होती है और दूसरे के आनंद से प्रसन्नता। हर मामले में उनका सुर एक होता है और दुश्मन के विरुद्ध एकजुट रहते हैं। अतः, उनपर अनिवार्य है कि वे मिलकर रहें और शासक का अनुसरण करें तथा जो शासक के विरुद्ध खड़ा हो, उसके खिलाफ़ शासक की सहायता करेें। इसलिए कि बग़ावत करने वाले ने मुसलमानों की एकता को नष्ट किया है, उनके खिलाफ़ हथियार उठाया है तथा उन्हें भयभीत किया है, अतः उससे जिहाद करना अनिवार्य है, यहाँ तक कि वह अल्लाह के आदेश की ओर लौट आए। इसलिए कि बग़ावत करने वाले के हृदय में उनके प्रति न कोई दया है और न इसलामी प्रेम। अतः, वह उनके रास्ते से भटका हुआ है और उनमें से नहीं है। इसलिए उससे युद्ध करना तथा उसे अनुशासन का पाठ पढ़ाना आवश्यक है।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी
अनुवादों को प्रदर्शित करें