عن عائشة قالت : كان النبي -صلى الله عليه وسلم- إذا خرج من الغائط قال: "غُفْرَانَكَ". وعن ابن مسعود قال: «أتى النبي -صلى الله عليه وسلم- الغائط فأمرني أن آتيه بثلاثة أحجار، فوجدت حجرين، والتمست الثالث فلم أجده، فأخذت رَوْثَةً فأتيته بها، فأخذ الحجرين وألقى الروثة». وقال: «هذا رِكْسٌ».
[حديث عائشة صحيح. وحديث ابن مسعود صحيح] - [حديث عائشة: رواه أبو داود والترمذي وابن ماجه والدارمي وأحمد. وحديث ابن مسعود: رواه البخاري]
المزيــد ...

आइशा (रज़ियल्लाहु अनहा) से वर्णित है, वह कहती हैं कि अल्लाह के नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) जब शौच के स्थान से निकलते तो कहते: "غُفْرَانَكَ" अर्थात, ऐ अल्लाह! मैं तुझसे क्षमा का प्रार्थी हूँ। अब्दुल्लाह बिन मसऊद (रज़ियल्लाहु अनहु) कहते हैं कि अल्लाह के नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) शौच के लिए गए तो मुझे तीन पत्थर लाने का आदेश दिया। मुझे दो ही पत्थर तो मिले, लेकिन ढूँढने के बावजूद तीसरा पत्थर न मिल सका। अतः मैं गोबर का एक टुकड़ा लेकर पहुँचा, तो दोनों पत्थर ले लिए और गोबर को फेंक दिया तथा फ़रमाया: यह गंदी वस्तु है।
सह़ीह़ - इसे इब्ने माजा ने रिवायत किया है ।

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग कुर्दिश
अनुवादों को प्रदर्शित करें
Donate