عن أبي قتادة الأنصاري -رضي الله عنه- مرفوعاً: "لا يُمْسِكَنَّ أَحَدُكُم ذَكَره بَيمِينِه وهو يبول، ولا يَتَمَسَّحْ من الخلاء بيمينه، ولا يَتَنَفَّس في الإناء".
[صحيح.] - [متفق عليه.]
المزيــد ...

अबू क़तादा अंसारी- रज़ियल्लाहु अन्हु- का वर्णन है कि अल्लाह के रसूल- सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- ने फ़रमायाः ''तुम में से कोई पेशाब करते समय अपने लिंग को दाएँ हाथ से न पकड़े तथा दाएँ हाथ से इस्तिंजा न करे एवं कुछ पीते समय बरतन में साँस न ले।''
-

व्याख्या

यहाँ अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) मुसलमानों को आदेश दे रहे हैं कि पेशाब करते समय लिंग को अपने दाएँ हाथ से न छूएँ तथा अगली या पिछली शर्मगाह की गंदगी को दाएँ हाथ से साफ़ न करें। इसी तरह जिस बरतन से कोई चीज़ पी रहे हों, उसमें फूँक न मारें, क्योंकि इसके अनेकों नुकसान हैं।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग
अनुवादों को प्रदर्शित करें