عن ابن عباس -رضي الله عنهما-: أن رسول الله -صلى الله عليه وسلم- لما بعث معاذا إلى اليمن قال له: "إنك تأتي قوما من أهل الكتاب، فليكن أولَ ما تدعوهم إليه شهادة أن لا إله إلا الله" -وفي رواية: "إلى أن يوحدوا الله-، فإن هم أطاعوك لذلك فأعلمهم أن الله افترض عليهم خمس صلوات في كل يوم وليلة، فإن هم أطاعوك لذلك فأعلمهم أن الله افترض عليهم صدقة تؤخذ من أغنيائهم فَتُرَدُّ على فقرائهم، فإن هم أطاعوك لذلك فإياك وكَرَائِمَ أموالِهم، واتق دعوة المظلوم فإنه ليس بينها وبين الله حجاب".
[صحيح.] - [متفق عليه.]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन अब्बास (रज़ियल्लाहु अन्हुमा) से रिवायत है कि रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने जब मुआज़ बिन जबल (रज़ियल्लाहु अन्हु) को यमन की ओर भेजा, तो उनसे फ़रमायाः "तुम एक ऐसे समुदाय के पास जा रहे हो, जिसे इससे पहले किताब दी जा चुकी है। अतः, सबसे पहेल उन्हें "لا إله إلا الله" की गवाही देने की ओर बुलाना।" तथा एक रिवायत में हैः "सबसे पहले उन्हें अल्लाह को एक मानने की ओर बुलाना। अगर वे तुम्हारी बात मान लें, तो उन्हें बताना कि अल्लाह ने उनपर दिन एवं रात में पाँच वक़्त की नमाजें फ़र्ज़ की हैं। अगर वे तुम्हारी यह बात मान लें, तो बताना कि अल्लाह ने उनपर ज़कात फ़र्ज़ की है, जो उनके धनी लोगों से ली जाएगी और उनके निर्धनों को लौटा दी जाएगी। अगर वे तुम्हारी इस बात को भी मान लें, तो उनके उत्कृष्ट धनों से बचे रहना। तथा मज़लूम की बददुआ से बचना। क्योंकि उसके तथा अल्लाह की बीच कोई आड़ नहीं होती।"
-

व्याख्या

अल्लाह के नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने जब मुआज़ बिन जबल (रज़ियल्लाहु अनहु) को यमन प्रांत की ओर इस्लाम के आह्वानकर्ता एवं उपदेशक के रूप में भेजा, तो उनके लिए अल्लाह की ओर बुलाने के इस महत्वपूर्ण कार्य की रुपरेखा निर्धारित कर दी। उन्हें बता दिया कि उनका सामना यहूदी एवं ईसाई जैसे समुदायों के लोगों से होने वाला है, जिन्हें पहले से आसमानी किताब एवं ज्ञान मिला हुआ है। इसका उद्देश्य यह था कि वह उनसे तार्किक अंदाज़ में बात करने और उनके संदेहों के निवारण के लिए मानसिक रूप से तैयार रहें। फिर बताया कि उन्हें इस्लाम की ओर बुलाते समय इस नियम को ध्यान में रखें कि जो अधिक महत्वपूर्ण हो उसकी ओर पहले बुलाया जाए। अतः, लोगों को सबसे पहले अक़ीदे (आस्था) में सुधार की ओर बुलाना चाहिए, क्योंकि यही आधारशीला है। अगर वह इसे मान लें, तो नमाज़ कायम करने का आदेश दें, क्योंकि यह एकेश्वरवाद के बाद सबसे ज़रूरी कार्य है। अगर वह नमाज़ कायम कर लें, जो उनके धनवान लोगों को आदेश दें कि अपने निर्धनों को ज़कात दें, ताकि उन्हें मुख्यधारा से जोड़ा जा सके और अल्लाह का शुक्र भी अदा हो जाए। फिर उन्हें सावधान किया कि ज़कात का धन वसूल करते समय धनवानों से उनका सबसे उत्तम धन लेने का प्रयत्न न करें। फिर न्याय तथा अत्याचार से बचने की ओर प्रेरित किया, ताकि उनपर कोई पीड़ित बद-दुआ न करे, जिसकी बद-बदुआ रद्द नहीं होती, तुरंत क़बूल कर ली जाती है।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग
अनुवादों को प्रदर्शित करें