عن ابن عمر -رضي الله عنهما- قال: سمعت رسول الله -صلى الله عليه وسلم- يقول: «يُدْنَى المؤمنُ يومَ القيامة من ربه حتى يضع كَنَفَهُ عليه، فيُقرِّرُه بذنوبِه، فيقول: أَتَعْرِفُ ذنبَ كذا؟ أَتَعْرِفُ ذنبَ كذا؟ فيقول: ربِّ أعرف، قال: فإني قد سَترتُها عليك في الدنيا، وأنا أغْفِرُها لك اليوم، فيعطى صحيفة حسناته».
[صحيح.] - [متفق عليه.]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन उमर - रज़ियल्लाहु अन्हुमा- कहते हैं कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमायाः क़यामत के दिन, मोमिन को उसके रब के निकट किया जाएगा, यहाँ तक कि उसपर अपनी ओर से पर्दा डाल देगा और उसे उसके गुनाहों का इकरार कराएगा। कहेगाः क्या तू इस गुनाह को जानता है? क्या तू इस गुनाह को पहचानता है? वह कहेगाः मेरे पालनहार! मैं पहचान रहा हूँ। अल्लाह कहेगाः मैंने दुनिया में तेरे इस गुनाह को छिपाया था और आज उसे माफ़ करता हूँ। उसके बाद उसे उसकी नेकियों की किताब दी जाएगी।
-

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग
अनुवादों को प्रदर्शित करें