عن أبي هريرة -رضي الله عنه- أن رسول الله -صلى الله عليه وسلم- قال: «ما نقصت صدقة من مال، وما زاد الله عبدا بعفو إلا عزا، وما تواضع أحد لله إلا رفعه الله -عز وجل-»
[صحيح.] - [رواه مسلم.]
المزيــد ...

अबू हुरैरा (रज़ियल्लाहु अन्हु) से वर्णित है, वह कहते हैं कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमायाः “सदक़ा और दान देने से किसी का माल कम नहीं होता है, बंदो को क्षमा करने से अल्लाह माफ़ करने वाले के आदर-सम्मान को और बढ़ा देता है और जो व्यक्ति अल्लाह के लिए विनम्रता अपनाता है, सर्वशक्तिमान एवं महान अल्लाह उसका स्थान ऊँचा कर देता है।”
सह़ीह़ - इसे मुस्लिम ने रिवायत किया है।

व्याख्या

(सदक़ा और दान से किसी का माल कम नहीं होता।) क्योंकि जब धन का सदक़ा निकाला जाता है, तो उससे धन में कमी होने के बजाय वृद्धि तथा बरकत होती है, और वह विपत्तियों से सुरक्षित रहता है। याद रहे कि धन में वृद्धि से मुराद या तो उसके परिमाण में वृद्धि है और मतलब यह है कि अल्लाह बंदे के लिए रोज़ी के कई द्वार खोल देता है। या फिर मुराद उसकी कैफ़ियत में वृद्धि है और मतलब यह है कि अल्लाह उसके धन में बरकत डाल देता है और जितना सदक़ा दिया है, उसे उससे अधिक बना देता है। (बंदों को क्षमा करने से अल्लाह माफ़ करने वाले के आदर-सम्मान को और बढ़ा देता है।) यानी जो क्षमा करेगा और प्रतिकार से बचेगा, वह लोगों के दिलों में बड़ा हो जाएगा, दिलों पर राज करेगा और दुनिया एवं आख़िरत में उसका सम्मान बढ़ता चला जाएगा। (जो अल्लाह के लिए विनम्रता अपनाता है, सर्वशक्तिमान एवं महान अल्लाह उसका स्थान ऊँचा कर देता है।) यानी जो व्यक्ति सर्वशक्तिमान एवं महान अल्लाह के लिए विनम्रता अपनाता है, उसके आगे विनयपूर्वक खड़ा होता है, उसकी सृष्टि के साथ नर्मीयुक्त व्यवहार करता है और मुसलमानों के बीच गुमनामी का जीवन व्यतीत करता है, तो ये विशेषताएँ उसे दुनिया में बुलंदी, लोगों के दिलों में प्रेम और जन्नत में उच्च स्थान प्रदान करती हैं।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग वियतनामी सिंहली उइग़ुर कुर्दिश होसा पुर्तगाली मलयालम तिलगू
अनुवादों को प्रदर्शित करें
1: सदक़ा (दान) की प्रेरणा देना।
2: सदक़ा धन की रक्षा, वृद्धि और बरकत का सबब है।
3: धन में वृद्धि कभी तो अमूर्त रूप से होती है। उदाहरणस्वरूप अल्लाह बंदे के लिए रोज़ी के द्वार खोल देता है। जबकि कभी मूर्त रूप से होती है। मसलन अल्लाह धन में बरकत डाल देता है और जितना बंदे ने सदक़े करने के लिए निकाला था उसे उससे अधिक बढ़ा देता है।
4: गलती करने वाले को क्षमा करने की प्रेरणा।
5: विनम्रता अपनाने की प्रेरणा।
6: विनम्रता ज़िल्लत नहीं है, जैसा कि लोग समझते हैं, बल्कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के कथन अनुसार सम्मान है।
7: विनम्रता की यह फ़ज़ीलत उस व्यक्ति को प्राप्त होगी, जो दिखावा के तौर पर नहीं, बल्कि अल्लाह की प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए विनम्रता अपनाए।
8: सम्मान एवं बुलंदी पवित्र एवं महान अल्लाह के हाथ में है। वह सम्मान एवं बुलंदी के साधनों को अपनाने वाले जिस व्यक्ति को चाहे, सम्मान एवं बुलंदी प्रदान करे।