عن أبي هنيدة وائل بن حجر -رضي الله عنه-: سأل سلمة بن يزيد الجعفي رسول الله -صلى الله عليه وسلم- فقال: يا نبي الله، أرأيت إن قامت علينا أمراء يسألونا حقهم، ويمنعونا حقنا، فما تأمرنا؟ فأعرض عنه، ثم سأله، فقال رسول الله -صلى الله عليه وسلم-: «اسمعوا وأطيعوا، فإنما عليهم ما حُمِّلُوا، وعليكم ما حُمِّلْتُم».
[صحيح.] - [رواه مسلم.]
المزيــد ...

अबू हुनैदा वाइल बिन हुज्र (रज़ियल्लाहु अंहु) का वर्णन है कि सलमा बिन यज़ीद ने अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) से पूछाः ऐ अल्लाह के नबी, आपका क्या ख़याल है कि यदि हमारे अमीर ऐसे लोग बन जाएँ, जो हमसे अपना अधिकार माँगें, लेकिन हमें हमारा अधिकार न दें, तो आप हमें क्या आदेश देते हैं? आपने उनसे मुँह फेर लिया। लेकिन उन्होंने फिर पूछा, तो अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमायाः "सुनते रहो और मानते रहो। क्योंकि उन्हें जो ज़िम्मेवारी दी गई है, उसका भार उन्हें उठाना है और तुम्हें जो ज़िम्मेवारी दी गई है, उसका भार तुम्हें उठाना है।"
सह़ीह़ - इसे मुस्लिम ने रिवायत किया है।

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग الفيتنامية السنهالية
अनुवादों को प्रदर्शित करें