عن عبد الله بن مسعود -رضي الله عنه- قال: قال رسول الله -صلى الله عليه وآله وسلم-: «لا يحل دم امرئ مسلم إلا بإحدى ثلاث: الثَّيِّبُ الزاني، والنفسُ بالنفس، والتاركُ لدينه المفارقُ للجماعة».
[صحيح.] - [متفق عليه.]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन मसऊद- रज़ियल्लाह अन्हु- कहते हैं कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमायाः किसी मुसलमान का रक्त तीन कारणों में से किसी एक कारण से हलाल हो सकता हैः पहला- वह शादीशुदा व्यभिचारी हो। दूसरा- प्राण के बदले प्राण लिया जाए। -तीसरा- तथा अपने धर्म को छोड़कर मुस्लिम समुदाय से अलग हो जाए।
सह़ीह़ - इसे बुख़ारी एवं मुस्लिम ने रिवायत किया है।

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी तगालोग उइग़ुर कुर्दिश होसा पुर्तगाली
अनुवादों को प्रदर्शित करें