عن عبد الله بن مَسعود -رضي الله عنه- قَالَ: قَالَ رَسُولُ اللَّهِ -صلى الله عليه وسلم-: «أَوَّلُ مَا يُقْضَى بَيْنَ النَّاسِ يَوْمَ الْقِيَامَةِ فِي الدِّمَاءِ».
[صحيح.] - [متفق عليه، واللفظ لمسلم.]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन मसऊद (रज़ियल्लाहु अन्हु) कहते हैं कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमायाः "क़यामत के दिन लोगों के बीच सबसे पहले रक्त के बारे में निर्णय किया जाएगा।"
-

व्याख्या

अल्लाह तआला क़यामत के दिन सारी सृष्टियों का हिसाब लेगा और फिर उनके बीच न्याय के साथ निर्णय करेगा। अत्याचारों का हिसाब लेते समय आरंभ उससे करेगा, जो सबसे महत्वपूर्ण हो। चूँकि रक्त का मामला सबसे अहम है और सबसे बड़ा अत्याचार किसी का नाहक़ ख़ून बहाना है, इसलिए उस महान दिवस में सबसे पहले उसी का निर्णय होगा। लेकिन याद रहे कि यहाँ बात बंदों के बीच अत्याचारों की चल रही है, जहाँ तक बंदों के कर्मों का प्रश्न है, तो उनमें से सबसे पहले नमाज़ को देखा जाएगा और सर्वप्रथम उसी का हिसाब होगा।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग
अनुवादों को प्रदर्शित करें