عن المقداد بن الأسود -رضي الله عنه- قال: قُلْتُ لرسولِ اللهِ -صلى الله عليه وسلم-: أَرَأَيْتَ إِنْ لَقِيتُ رَجُلًا مِن الكفارِ، فَاقْتَتَلْنَا، فضربَ إِحْدَى يَدَيَّ بالسيفِ، فَقَطَعَهَا، ثُمَّ لَاذَ مِنِّي بشجرةٍ، فقال: أَسْلَمْتُ للهِ، أَأَقْتُلُهُ يا رسولَ اللهِ بَعْدَ أَنْ قَالها؟ فقال: «لا تَقْتُلْهُ» فقلتُ: يا رسولَ اللهِ، قَطَعَ إِحْدَى يَدَيَّ، ثُمَّ قال ذلك بعد ما قَطَعَهَا؟! فقال: «لا تَقْتُلْهُ، فَإِنْ قَتَلْتَهُ فَإِنَّهُ بِمَنْزِلَتِكَ قَبْلَ أَنْ تَقْتُلَهُ، وَإِنَّكَ بِمَنْزِلَتِهِ قَبْلَ أَنْ يَقُولَ كَلِمَتَهُ التي قالَ».
[صحيح.] - [متفق عليه.]
المزيــد ...

मिक़दाद बिन असवद- रज़ियल्लाहु अन्हु- कहते हैं कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमायाः ऐ अल्लाह के रसूल! ज़रा यह बताएँ कि अगर मेरी मुठभेड़ किसी काफ़िर से हो जाए और हम लड़ पड़ें। फिर वह तलवार से मेरा एक हाथ काट दे और उसके बाद मुझसे भागकर एक पेड़ की आड़ में छिप जाए और कहने लगेः मैं अल्लाह के लिए इस्लाम ग्रहण करता हूँ। ऐसे में, मैं क्या करूँ? क्या यह बोलने के बाद भी उसे मार दूँ? आपने कहाः उसे न मारो। मैंने कहाः ऐ अल्लाह के रसूल! उसने मेरा एक हाथ काटने के बाद यह कहा है? तो फ़रमायाः उसे न मारो। अगर तुमने उसे मार दिया तो वह उस अवस्था में होगा, जिसमें तुम उसे मारने से पहले थे और तुम उस हाल में पहुँच जाओगे, जहाँ वह यह बात कहने से पहले था।
-

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी तगालोग
अनुवादों को प्रदर्शित करें