عن عبدالله بن عمرو بن العاص- رضي الله عنه- أن رسول الله -صلى الله عليه وسلم- قال: «قد أفلح من أسلم وكان رزقُهُ كَفَافًا وقَنَّعَهُ الله بما آتاه». وعن أبي محمد فضالة بن عبيد الأنصاري -رضي الله عنه-: أنه سمع رسول الله -صلى الله عليه وسلم- يقول: «طُوبَى لمن هُدِيَ للإسلام، وكان عَيْشُهُ كَفَافًا وقَنِعَ».
[صحيحان] - [حديث ابن عمرو رضي الله عنهما: رواه مسلم. حديث فضالة بن عبيد رضي الله عنه: رواه الترمذي وأحمد.]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन अम्र बिन आस (रज़ियल्लाहु अन्हुमा) का वर्णन है कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमाया : "वह व्यक्ति सफल हो गया, जिसने इस्लाम ग्रहण कर लिया, उसे ज़रूरत भर रोज़ी मिल गई और अल्लाह की दी हुई चीज़ों से संतुष्ट रहा।" और अबू मुहम्मद फ़ज़ाला बिन उबैद अंसारी (रज़ियल्लाहु अन्हु) से रिवायत है कि उन्होंने अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) को फ़रमाते हुए सुना : "शुभ सूचना है उस व्यक्ति के लिए, जो मुसलमान हो गया, उसे पर्याप्त आजीविका मिल गई और वह संतुष्त रहा।"
दोनों रिवायतों को मिलाकर सह़ीह़ - इसे तिर्मिज़ी ने रिवायत किया है।

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग कुर्दिश
अनुवादों को प्रदर्शित करें