عن أبي بَكْرَةَ -رضي الله عنه- قال: لقد نَفَعني الله بكلمة سمعتُها من رسول الله -صلى الله عليه وسلم- أيَّام الجَمَل، بعد ما كدْتُ أنْ ألْحَقَ بأصحاب الجَمَل فَأُقاتِل معهم، قال: لمَّا بلَغَ رسول الله -صلى الله عليه وسلم- أن أهل فَارِس، قد مَلَّكوا عليهم بنت كِسْرَى، قال: «لن يُفْلِح قوم ولَّوْا أمْرَهُم امرَأة».
[صحيح.] - [رواه البخاري.]
المزيــد ...

अबू बकरा -रज़ियल्लाहु अन्हु- से रिवायत है, वह कहते हैं अल्लाह ने जमल युद्ध के दिनों में मुझे उस एक वाक्य से फ़ायदा पहुँचाया, जो मैंने अल्लाह के रसूल -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- से सुन रखा था। हालाँकि मैं जमल वालों के साथ मिलकर युद्ध में शामिल होने ही वाला था। वह कहते हैं : जब अल्लाह के रसूल -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- को ख़बर मिली कि फ़ारस वालों ने किसरा की बेटी को बादशाह बना लिया है, तो फ़रमाया : “जो क़ौम किसी औरत के हाथ में सत्ता सोंप देगी, वह कभी सफल नहीं हो सकेगी।”
सह़ीह़ - इसे बुख़ारी ने रिवायत किया है।

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच बोस्नियाई रूसी चीनी फ़ारसी
अनुवादों को प्रदर्शित करें