عن أبي موسى الأشعري -رضي الله عنه- قال: احْتَرَقَ بَيْتٌ بالمَدِينَةِ عَلَى أهْلِهِ مِنَ اللَّيْلِ، فَلَمَّا حُدِّثَ رَسُولُ اللهِ -صلى الله عليه وسلم- بِشَأنِهِم، قالَ: «إنَّ هذه النارَ عَدُوٌّ لَكُمْ، فَإِذَا نِمْتُم، فَأَطْفِئُوهَا عَنْكُمْ».
[صحيح] - [متفق عليه]
المزيــد ...

अबू मूसा अशअरी- रज़ियल्लाहु अन्हु- का वर्णन है कि मदीना में रात के समय एक घर, घर वालों समेत, जल गया। जब अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) को उनके बारे में बताया गया, तो फ़रमायाः यह आग तुम्हारी दुशमन है। अतः, जब सोने लगो, तो उसे बुझा दिया करो।
सह़ीह़ - इसे बुख़ारी एवं मुस्लिम ने रिवायत किया है।

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग कुर्दिश होसा
अनुवादों को प्रदर्शित करें
अधिक