عن عبد الله بن عُمر -رضي الله عنهما- عن رسول الله -صلى الله عليه وسلم- أنه قال: «اللَّهُمَّ ارحم الْمُحَلِّقِينَ. قالوا: والْمُقَصِّرِينَ يا رسول الله؟ قال: اللهم ارحم الْمُحَلِّقِينَ. قالوا: والْمُقَصِّرِينَ يا رسول الله؟ قال: اللهم ارحم الْمُحَلِّقِينَ. قالوا: والْمُقَصِّرِينَ يا رسول الله؟ قال: والْمُقَصِّرِينَ».
[صحيح] - [متفق عليه]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन उमर (रज़ियल्लाहु अंहुमा) अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) से वर्णन करते हैं कि आपने फ़रमायाः "ऐ अल्लाह, सिर मुंडवाने वालों पर दया कर।" लोगों ने कहाः ऐ अल्लाह के रसूल, बाल छोटे करवाने वालों पर? फ़रमायाः "ऐ अल्लाह, सिर मुंडवाने वालों पर दया कर।" लोगों ने कहाः ऐ अल्लाह के रसूल, बाल छोटे करवाने वालों पर? फ़रमायाः "ऐ अल्लाह, सिर मुंडवाने वालों पर दया कर।" लोगों ने कहाः ऐ अल्लाह के रसूल, बाल छोटे करवाने वालों पर? फ़रमायाः "बाल छोटे करवाने वालों पर भी।"
सह़ीह़ - इसे बुख़ारी एवं मुस्लिम ने रिवायत किया है।

व्याख्या

सर मुँड़वाना तथा बाल छोटे करवाना हज और उमरा के मनासिक (क्रिया-कलापों) में से है और बाल मुँड़वाना, छोटे करवाने की तुलना में उत्तम है; क्योंकि अल्लाह तआला की आज्ञापालन में सर के बालों को पूरे तौर पर हटा देने में अधिक समर्पण है। यही कारण है कि नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने सर मुँड़वाने वाले के लिए तीन बार रहमत की दुआ की, जबकि उपस्थित लोग आपको बाल छोटे करवाने वाले की याद दिलाते रहे। फिर तीसरी या चौथी बार बाल छोटे करवाने वालों को उनके साथ शामिल किया। यह, इस बात का प्रमाण है कि पुरुषों के हक़ में मुँड़वाना ही उत्तम है। परन्तु, यदि समय 'तमत्तो' के उमरा का हो और वक़्त इतना कम हो कि हज के मुंडन के लिए बाल निकल न सकते हों, तो ऐसे में छोटे करवाना ही उत्तम है। क्योंकि उसे इसके बाद तो मुंडन करवाना ही है।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग उइग़ुर कुर्दिश होसा पुर्तगाली
अनुवादों को प्रदर्शित करें
अधिक