عن علي بن أبي طالب -رضي الله عنه- قال: «ما رَمِدْتُ ولا صُدِعْتُ منذ مَسَحَ رسول الله -صلى الله عليه وسلم- وجْهي، وتَفَل في عيْنِي يوم خَيْبر حِين أعْطاني الرَّايَة».
[حسن] - [رواه أبو يعلى وأحمد بمعناه]
المزيــد ...

अली बिन अबू तालिब- रज़ियल्लाहु अन्हु- से वर्णित है वह कहते हैंः मुझे कभी आँख आई (नेत्र-शोथ हुई) और न ही कभी सिर में दर्द हुआ जब से अल्लाह के रसूल - सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- ने मेरे चेहरे को पोंछा था, और मेरी आँखों में थुका था (और ऐसा) ख़ैबर के दिन (हुआ था) जब आप ने मुझे झंडा दिया था।
ह़सन - इसे अबू यअ्ला ने रिवायत किया है।

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच बोस्नियाई रूसी चीनी फ़ारसी उइग़ुर होसा
अनुवादों को प्रदर्शित करें
Donate