عن أبي هريرة -رضي الله عنه- عن النبي -صلى الله عليه وسلم- قال: «إنَّما سُمِّيَ الخَضِرُ أنَّه جلس على فَرْوَة بيضاء، فإذا هي تهتزُّ مِنْ خَلْفِه خَضْراء».
[صحيح.] - [رواه البخاري.]
المزيــد ...

अबू हुरैरा -रज़ियल्लाहु अंहु- का वर्णन है, वह कहते हैं कि नबी -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- ने फ़रमायाः "ख़ज़िर को ख़ज़िर का नाम इसलिए दिया गया कि (एक बार) वह एक सूखे खेत में बैठे, तो देखते ही देखते उनके पीछे हरियाली लहलहाने लगी।"
सह़ीह़ - इसे बुख़ारी ने रिवायत किया है।

व्याख्या

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी चीनी फ़ारसी होसा
अनुवादों को प्रदर्शित करें