عن عائشة -رضي الله عنها- قالت: مَا رَأَيتُ رسُول الله -صلَّى الله عليه وسلَّم- مُسْتَجْمِعًا قَطُّ ضَاحِكًا حَتَّى تُرَى مِنْهُ لَهَوَاتُهُ، إِنَّمَا كَانَ يَتَبَسَّم.
[صحيح] - [متفق عليه]
المزيــد ...

आइशा (रज़ियल्लाहु अंहु) कहती हैं कि मैंने कभी अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) को इस तरह खिल-खिलाकर हँसते हुए नहीं देखा कि आपके कौए नज़र आने लगें। आप केवल मुस्कुराया करते थे।
सह़ीह़ - इसे बुख़ारी एवं मुस्लिम ने रिवायत किया है।

व्याख्या

आइशा -रज़ियल्लाहु अनहा- की यह हदीस अल्लाह के रसूल -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- के व्यक्तित्व के कुछ पहलुओं, जैसे प्रतिष्ठा और धीरज आदि का चित्रण करती है। वह कहती हैं : "मैंने कभी अल्लाह के रसूल -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- को इस तरह खिल-खिलाकर हँसते हुए नहीं देखा कि आपके कौए नज़र आने लगें। आप केवल मुस्कुराया करते थे।" यह आपके धीरज एवं सज्जनता का परिचायक है।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग सिंहली कुर्दिश होसा पुर्तगाली सवाहिली
अनुवादों को प्रदर्शित करें