عن عبد الله بن مسعود -رضي الله عنه- قال: كان رسول الله -صلى الله عليه وسلم- يقول: «اللهم ِإنِّي أَسأَلُك الهُدَى، والتُّقَى، والعَفَاف، والغِنَى».
[صحيح] - [رواه مسلم]
المزيــد ...

अब्दुल्लाह बिन मसऊद (रज़ियल्लाहु अंहु) से वर्णित है, कहते हैंः अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) कहा करते थेः "ऐ अल्लाह, मैं तुझसे हिदायत, तक़वा, पाक दामनी और बेनियाज़ी माँगता हूँ।"
सह़ीह़ - इसे मुस्लिम ने रिवायत किया है।

व्याख्या

अल्लाह के नबी -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- ने अपने पालनहार से ज्ञान एवं सत्य के अनुपालन का सुयोग माँगा, उसके आदेशों का पालन करने और उसकी मनाहियों से दूर रहने का सामर्थ्य माँगा, उसकी हराम की हुई चीज़ों से सुरक्षित रहने की क्षमता माँगी और साथ ही उससे सृष्टि से ऐसी निस्पृहता माँगी कि सर्वशक्तिमान एवं महान के अतिरिक्त किसी की आवश्यकता न पड़े।

अनुवाद: अंग्रेज़ी फ्रेंच स्पेनिश तुर्की उर्दू इंडोनेशियाई बोस्नियाई रूसी बंगला चीनी फ़ारसी तगालोग सिंहली कुर्दिश पुर्तगाली सवाहिली
अनुवादों को प्रदर्शित करें
अधिक